भारत की खोज जिसने दुनिया को बदल दिया Indian Discoveries That changed the World

Indian Discoveries That changed the World in Hindi

Indian Discoveries That changed the World: आज इतिहास के मामले में पश्चिमी देश हम से काफी आगे निकल गए हैं हम भी काफी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं लेकिन अभी काफी सफर करना बाकी है। आज आप भी उन पश्चिमी देशों को आधुनिक विज्ञान का जनक मानते होंगे लेकिन यह गलत है, भारत में भी कई जबरदस्त आविष्कार Indian Discoveries हुए जिनके बिना आज विज्ञान का स्तर तक पहुंचना नामुमकिन था।

आज हम आपको भारत के विज्ञान के क्षेत्र में उपलब्धियां गिनाएंगे, जिससे पूरी दुनिया भारत को सलाम करती है। Indian Discoveries That changed the World.

Indian Discoveries That changed the World

शुरुआत करते हैं जीरो से यानी की शून्य। शून्य (0) का इस्तेमाल करना आर्यभट्ट ने सिखाया था। उस समय जब सिर्फ इकाइयों का इस्तेमाल होता था उस समय आर्यभट्ट ने जीरो का इस्तेमाल शुरू किया। जिसकी बदौलत आज विज्ञान यहां तक पहुंच पाई है। इसी से जलते हुए अंग्रेज इसे जीरो के बजाय ओ(O) कहते हैं।

हाजी अली दरगाह का हिला देने वाला रहस्य 

स्केल की खोज भी सबसे पहले भारतीयों ने ही की थी। एक्सपेरिमेंट में लगभग 35 साल पुराने स्केल पाए गए हैं। जिनकी सटीकता पूरी तरह सही थी। यानी जो अंग्रेज आज खुद को मॉडर्न आर्किटेक्ट कहते हैं उन को मापना भी भारतीयों ने ही सिखाया था।

सूती वस्त्र को भी भारत से ही पूरी दुनिया में पहुंचाया गया। जब 5000 साल से भी ज्यादा पहले पूरी दुनिया जानवरों की चमड़ी पहनती थी, तब भारतवासी रुई से कपड़े बनाने की कला सीख चुके थे। यानी आप जिन विदेशियों के मॉडर्न कपड़े देखकर कहते हैं कि यह मॉडर्न है, उसकी शुरूआत भी भारत वासियों ने ही की थी।

आज भारत की सरकार हर घर में शौचालय बनाने के उद्देश्य में लगी हुई है, जबकि इंडस वैली की सभ्यता में पुराने शौचालय मिले हैं। जिसमें अंडर ग्राउंड पानी की निकासी भी थी। यानी की जिस समय पूरी दुनिया खुले में शौच करती थी तब भारतीय शौचालय बना चुके थे। पूरी दुनिया जब नई-नई बीमारियों से लड़ रही थी तब भारतीयों ने आयुर्वेद की रचना की थी। आपको तो यह भी नहीं पता होगा कि जिस प्लास्टिक सर्जरी को आप पश्चिमी देश की देन समझते हैं, उसे 2600 साल पहले ही सुश्रुत संहिता में बताया गया था। यानी मॉडर्न मेडिकल की जड़े भी भारत से ही जुड़ती है।

आज जो भी आप वायरलेस फोन चलाते हैं उसमें भी भारत की सबसे बड़ी देन है। भारत के श्री जगदीश चंद्र बोस ने 1895 ईसवी में पहली बार ‘पब्लिकली वायरलेस कम्युनिकेशन डेमोंस्ट्रेशन’ करके दिखाया था। आप जिस आधुनिक विज्ञान में वायरलेस वायरलेस करके पश्चिम देश की तरफ देखते हैं उसे भी भारतीयों ने ही बनाया था।

आज आप सभी कहते हैं कि पश्चिमी देशों के विज्ञान ने कितनी तरक्की कर ली है, इंसान चांद तक पहुंच गया है। लेकिन आयरन केज रॉकेट का इस्तेमाल भी सबसे पहले भारत में ही टीपू सुल्तान ने किया था। यानी कि आज की मॉडर्न मिसाइल की शुरुआत भी भारत में ही हुई थी। Indian Discoveries That changed the World

यह सब तो बस चंद उपलब्धियां है बाकी हम आगे की पोस्ट में जारी रखेंगे। आप भी अपनी राय अपने कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं।

दोस्तों आज कई लोग भारत में रहकर भारत को ही कोसते हैं और विदेशों का गुणगान करते है उन्हें इतिहास के दो पन्ने ही पढ़ लेनी चाहिए। क्योंकि सारी उम्र भारत को कोसते ही निकल जाएगी और जब बुढ़ापा आएगा तब भारत का गुणगान करते नहीं थकेंगे।

आशा करते हैं आपको हमारा यह पोस्ट Indian Discoveries That changed the World पसंद आया होगा। अगर आपको हमारा पोस्ट पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए। धन्यवाद॥

If You Like My Post Then Share To Other People

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here