ॐ मंत्र का रहस्य और उसके लाभ Mystery and Importance of OM Mantra in Hindi

Mystery and Importance of OM Mantra in Hindi

Mystery and Importance of “OM Mantra” in Hindi: दोस्तों ॐ को ओम लिखना, हम सब की मजबूरी है अन्यथा हम सभी जानते हैं कि वह खुद ही एक शब्द है। अब आप ही सोचिए कि से उच्चारित कैसे किया जाए? ॐ का चिन्ह अद्भुत और अत्यंत चमत्कारी है। यह संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रतीक है। ओंकार ध्वनि के 100 से भी ज्यादा अर्थ दिए गए हैं। ओम अनादि और अनंत है। तथा समस्त जगत की निर्माण की अवस्था का प्रतीक है। ॐ मंत्र बड़ा ही अदभुत है, ॐ मंत्र के जाप से अनेक लाभ है आइए जानते हैं ॐ मंत्र(OM Mantra) का रहस्य और उसके लाभ के बारे में…Mystery and Importance of OM Mantra

हमारे वेदों और पुराणों के अनुसार ओंकार ध्वनि(ॐ) को दुनिया के सभी मंत्रों का सार कहा गया है। इसके उच्चारण करने के साथ ही शरीर पर यह अपना सकारात्मक प्रभाव छोड़ती है। भारतीय सभ्यता के प्रारंभ से ही ओंकार ध्वनि के महत्व से सभी परिचित हैं। और जो नहीं जानते वह भी इसे समझने की कोशिश कर रहे हैं। दोस्तों 5 अवयव-अ’ से अकार, ‘उ’ से उकार एवं ‘म’ से मकार, ‘नाद’ और ‘बिंदु’ इन पांचों को मिलाकर ओम एकाक्षरी मंत्र का निर्माण होता है।

दुनिया के महानतम वैज्ञानिकों में से एक आइंस्टाइन ने भी यही कहा है कि ब्रह्मांड फैल रहा है। आइंस्टाइन के पहले भगवान महावीर ने हम सब को यह बताया था। और महावीर से पहले हमारे वेदों में इसका उल्लेख मिलता है। भगवान महावीर ने वेदों को पढ़कर नहीं बल्कि उन्होंने तो ध्यान की अतल गहराइयों में उतर कर देखा, तब दुनिया को बताया। ॐ को ओम कहा जाता है। उसमें भी बोलते वक्त ‘ओ’ पर ज्यादा जोर होता है। इसे प्रणव मंत्र भी कहा जाता है। दोस्तों ओम सभी मंत्रों का प्रारंभ है,अंत नहीं। इसलिए ओम बहुत ही ज्यादा शक्तिशाली और चमत्कारी है। यह ब्रह्मांड की अनाहत ध्वनि है। अनाहत का अर्थ होता है किसी भी प्रकार की टकराहट। इसको अनहद भी कहते हैं। यह संपूर्ण ब्रह्मांड और पूरे जगत के कण-कण में अनवरत जारी है। Mystery and Importance of OM Mantra

क्यों यमराज को लेना पड़ा था विदुर रुप में अवतार

तपस्वियों और ऋषि मुनियों ने जब ध्यान की गहरी अवस्था में सुना कि कोई ऐसी ध्वनि है जो लगातार सुनाई देती रहती है। शरीर के बाहर भी और शरीर के भीतर भी, हर कहीं, हर जगह सिर्फ वही ध्वनि निरंतर जारी है, और सुनाई दे रही है। और उस ध्वनि को सुनते रहने से मन और आत्मा दोनों को अत्यंत शांति महसूस होती है। तो ऋषि-मुनियों ने उस ध्वनि को नाम दिया ओम(ॐ )।

दोस्तों हम जैसे साधारण मनुष्य उस दिव्य ध्वनि को नहीं सुन सकते। लेकिन जो भी ओम का उच्चारण करते रहते हैं, उनके आसपास सकारात्मक ऊर्जा का विकास होने लगता है। फिर भी उस ध्वनि को सुनने के लिए तो पूर्णता मौन और ध्यान की अवस्था में होना जरूरी है। तभी उस दिव्य ध्वनि को सुना जा सकता है। शास्त्रों और पुराणों के अनुसार जो भी उस ध्वनि को सुनने लगता है, वह परमात्मा से सीधा जुड़ने लगता है। साधारण शब्दों में कहें तो परमात्मा से जुड़ने का साधारण और सबसे सरल तरीका है, ओम का उच्चारण करते रहना। ॐ शब्द तीन ध्वनियों से बना है अ, उ, म, इन तीनों ध्वनियों का अर्थ हम सबको उपनिषद में भी मिलता है। यह ब्रह्मा, विष्णु और महेश का भी प्रतीक है। भू: लोक, भूव: लोक और स्वर्ग लोग का प्रतीक है।

पद्मनाभस्वामी मंदिर के सातवाँ द्वार का रहस्य

तंत्र योग में एकाक्षर मंत्रों का बहुत ही ज्यादा विशेष महत्व है, देवनागरी लिपि के प्रत्येक शब्द में अनुस्वार लगाकर उन्हें मंत्र का स्वरूप दिया गया है। सभी मंत्रों का उच्चारण जीव, होंठ, तालू, दांत, कंठ और फेफड़ों से निकलने वाली वायु के सम्मिलित प्रभाव से संभव होता है। इस से निकलने वाली ध्वनि शरीर के सभी चक्रों और हार्मोन स्राव करने वाली ग्रंथियों से टकराती है, इन ग्रंथियों के सूत्रों को नियंत्रित करके बीमारियों को दूर भगाया जा सकता है। Mystery and Importance of OM Mantra

ॐ के उच्चारण कब करना चाहिए?

प्रातः काल उठकर पवित्र होकर ओंकार ध्वनि का उच्चारण करें। दोस्तों ओम का उच्चारण पद्मासन, अर्धपद्मासन, सुखासन, वज्रासन में बैठकर किया जाता है। ओम शब्द का उच्चारण आप अपने अनुसार 5,7,10,21 बार अपने समय अनुसार कर सकते हैं। आप ओम को जोर से भी बोल सकते हैं और इसका उच्चारण धीरे-धीरे भी कर सकते हैं। आप ॐ  जप माला से भी इसका उच्चारण कर सकते हैं।

ॐ के उच्चारण करने से होनेवाले फायदे

ओम(OM Mantra) के उच्चारण से मनुष्य के शरीर और मन को एकाग्र करने में मदद मिलती है। दिल की धड़कन और रक्त संचार व्यवस्थित होता है। इससे मानसिक बीमारियां दूर होती है,और परम शांति महसूस होती है। काम करने की शक्ति बढ़ जाती है। और इसका उच्चारण करने वाला और इसे सुनने वाला दोनों ही लाभान्वित होता है। इसके उच्चारण में पवित्रता का ध्यान रखा जाता है।

If You Like My Post Then Share To Other People

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here