टेक्नोलॉजी के हैरान कर देने वाले फैक्ट्स Shocking Technology Facts in Hindi

Shocking Technology Facts in Hindi

Shocking Technology Facts in Hindi:

आज आपको हम अपने इस पोस्ट में टेक्नोलॉजी के हैरान कर देने वाले फैक्ट्स(Shocking Technology Facts) बता रहे है, जो आपको हैरान कर देंगे।

1. E-mail Facts in Hindi:

क्या दोस्तों आपको पता है कि इंटरनेट से पहले ही ईमेल(E-mail) आ गया था। 1984 की एक इंटरेस्टिंग क्लिप है जोकि YouTube पर देखने को मिलती है। एक टीवी शो हुआ करता था जिसका नाम था ‘डेटाबेस’ वहां पर जो उनके होस्ट हैं, वह बता रहे हैं कि उस समय इंटरनेट(Internet) ना होते हुए भी ईमेल(E-mail) कैसे भेजा जाता था।

टेक्नोलॉजी के हैरान कर देने वाले फैक्ट्स shocking technology facts

उन पुराने दिनों में एक रोटरी फोन हुआ करता था, जिसमें नंबर घुमाकर डायल किया जाता था। 776 करके एक नंबर हुआ करता था, और उसे एक सर्विस से कनेक्ट करते थे, जिसका नाम था ‘माइक्रो नेट'(Micronet), और ‘माइक्रो नेट’ www (World Wide Web) से बहुत पहले ही आ गई थी। और उसको भेजने के लिए बहुत ही ज्यादा कनेक्टिविटी का प्रॉब्लम होता था, लेकिन फिर भी ईमेल भेजा जाता था। मैसेज सेंड किया जाते थे। दोस्तों उस समय इंटरनेट भी नहीं आया था। कहने का मतलब यह हुआ कि इंटरनेट से पुराना है ईमेल। Shocking Technology Facts in Hindi

2. Computer Keyboard Facts in hindi:

टेक्नोलॉजी के हैरान कर देने वाले फैक्ट्स shocking technology facts

क्या आपने कभी सोचा है कि आपके कंप्यूटर के कीबोर्ड(Computer keyboard) में अल्फाबेट (ABCD) सब लाइन में क्यों नहीं होते? उनमें QWERTY क्यों होता है? जैसे “Q U I R, W A R T” इस तरह से क्यों अल्फाबेट कीबोर्ड में बैठाया गया हैं? आपको शायद यह जानकर हैरानी होगी कि कंप्यूटर के कीबोर्ड में जो अल्फाबेट हैं, जो बटन है उसे सीरियल वाइज इसलिए नहीं लगाया गया, क्योंकि वह चाहते थे आपको स्लो (धीमा) करना। जी हां दोस्तों कीबोर्ड(keyboard) में ऐसे अल्फाबेट बैठाना एक टाइपिस्ट को धीमा करने के लिए बैठाया गया था, ताकि ओ धीमा टाइप कर सके। ध्यान दें क्यों की उन दिनों कंप्यूटर(Computer) में जब कोई फास्ट(तेज) टाइप करता था, तो कंप्यूटर हैंग हो जाया करते थे। उसी से बचने के लिए कंप्यूटर के कीबोर्ड में अल्फाबेट को इधर-उधर कर दिया गया। उसे क्वर्टी(QWERTY) में डाल दिया, बाकी सारे बटन इधर उधर कर दिए,ताकि टाइप करने वाला धीमा टाइप कर सके। Shocking Technology Facts in Hindi

इंटरनेट कैसे चलता है? और इसका मालिक कौन है?

इसकी दूसरी थ्योरी यह कहती है की, यह जो कीबोर्ड(keyboard) के बटन होते हैं, यह ‘मोस्ट कॉर्ड’  देने के लिए सबसे ज्यादा सूटेबल है, इसीलिए ऐसे बनाए गए थे। लेकिन दोस्तों दोनों ही थ्योरी में ऐसा कुछ जरूरी चीज नहीं है, ऐसा कोई रूल नहीं बनता कि, कीबोर्ड(keyboard) का अल्फाबेट ऐसा ही रखा जाए। लेकिन फिर भी आश्चर्य की बात यह है की, आज तक QWERTY वाला है कीबोर्ड(keyboard) चल रहा है।

दोस्तों आपने वेबसाइट का नाम तो जरूर सुना होगा। जैसे कि www.google.com,www.yahoo.com इत्यादि। आपको यह जान कर हैरानी होगी की 1995 ईस्वी तक यह सारे डोमेन फ्री थे। इसका मतलब यह है कि अगर आपने उस जमाने में कंप्यूटर चलाया होगा। (लेकिन उस जमाने में लोग ज्यादा कंप्यूटर चलाते नहीं थे, बहुत ही कम लोग उस जमाने में कंप्यूटर चलाया करते थे) तो 1995 में डोमेन रजिस्टर करना बिल्कुल फ्री था। उसके कोई पैसे नहीं देने पड़ते थे। लेकिन बाद में उसके 100 डॉलर देना पड़ता था। जिसका 30% फिश जाती थी ‘इंटरनेट इंफ्रास्ट्रक्चर’ को बढ़ाने के लिए, क्योंकि उस जमाने में इंटरनेट इतना आगे नहीं हुआ करता था।

दोस्तों ‘नेटवर्क सलूशन'(Network Solutions) नाम की एक कंपनी हुआ करती थी, जिसको पहली बार डोमेन बेचने का परमिशन मिला था, कि आप डोमेन बेच सकते हैं।

3. Wikipedia Facts in hindi:

टेक्नोलॉजी के हैरान कर देने वाले फैक्ट्स shocking technology facts

विकिपीडिया(Wikipedia) एक फ्री वेबसाइट(Website) है। जिसका मकसद यह है की ओ सबको फ्री में इंफॉर्मेशन (जानकारी) प्रोवाइड करा सके, जिसके पास इंटरनेट है। तो वहां पर कोई भी साइन अप कर सकता है। और पेजेज को एडिट कर सकता है। तो इसके साथ यह परेशानी आ जाती है की, कोई भी कुछ भी फैक्ट है उसे चेंज करके उससे जुड़ी कुछ गलत जानकारी ऐड कर देता है, जो कि गलत है। इसको सही करने के लिए कुछ ऑफिशियल यूजर हैं। लेकिन ज्यादातर 2000 वर्ड्स काम करते हैं। उनका काम यह होता है कि, कुछ गलत एक्टिविटीज देखी जाए, तो उसे फिर से सही कर दिया जाए। Shocking Technology Facts in Hindi

यह भी पढ़ें:-पद्मनाभस्वामी मंदिर के सातवाँ द्वार का रहस्य

जोनाथन जेम्स(Jonathan James) नाम के एक युवक ने जिसकी उम्र 16 साल की थी, उसने सन 1999 ईस्वी में NASA(National Aeronautics and Space Administration) को हैक कर लिया था। और वहां से लगभग 3000 यूज़रनेम(Username) और पासवर्ड(Password) निकाल लिए थे, सिर्फ अपने एक छोटे से कंप्यूटर की मदद से। दोस्तों उस टाइम 3 हफ्ते तक नासा(NASA) के कंप्यूटर को बंद रखा गया, उस प्रॉब्लम को सॉल्व करने के लिए। नासा(NASA) में जितने भी स्क्रिप्ट थी, सीक्रेट डॉक्यूमेंट थे, जो भी टेक्निक न्यूज़ होती थी वहां, वह सब उस लड़के ने अपने एक छोटे से कंप्यूटर की मदद से नासा से हैक कर लिया।

तो दोस्तों आपको हमारा पोस्ट Shocking Technology Facts in Hindi कैसा लगा अपने कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं। धन्यवाद॥

If You Like My Post Then Share To Other People
Loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here