सोमनाथ मंदिर से जुड़े अनसुलझे रहस्य Somnath Temple Mystery In Hindi

Somnath Temple Mystery In Hindi

Somnath Temple Mystery In Hindi: दोस्तों आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बतला रहे हैं जिसका निर्माण किसने किया और यह कब बनाया गया इसकी जानकारी आज तक किसी को नहीं हो पाई है। जिस मंदिर को मुगलों ने कई बार लूटा, कई विदेशी ताकतों ने इस मंदिर को जड़ से उखाड़ फेंकने की नाकाम कोशिश की, कई बार इस मंदिर की संपत्ति को लूटा गया, जितना बार इस मंदिर को नष्ट करने के लिए दुष्ट पैदा हुए, उतने ही बार इस मंदिर के पुनः निर्माण के लिए पुण्य आत्माओं ने जन्म लिया।

आज हम आपको भारत के इतिहास के सबसे रहस्यमई, अद्भुत और आश्चर्यजनक मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिस इतिहास के बारे में हर भारतवासी को जरूर जानना चाहिए। दोस्तों हम बात कर रहे हैं सोमनाथ मंदिर की जो की एक हिंदू मंदिर है। Somnath Temple Mystery In Hindi जिसकी गिनती भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में सर्वप्रथम ज्योतिर्लिंग के रूप में होती है। गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल बंदरगाह मे स्थित इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण चंद्रदेव ने करवाया था। इस मंदिर का उल्लेख ऋग्वेद में भी मिलता है। यह मंदिर हिंदू धर्म के उत्थान-पतन का प्रतीक रहा है। अत्यंत वैभवशाली होने के कारण इतिहास में कई बार इस मंदिर को तोड़ा गया तथा पुनः निर्मित किया गया। वर्तमान भवन का पुनः निर्माण का आरंभ भारत के स्वतंत्रता के पश्चात लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल ने करवाया। और 1 दिसंबर 1995 ईस्वी को भारत के राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने इसे राष्ट्र को समर्पित किया।

सोमनाथ मंदिर विश्व प्रसिद्ध धार्मिक पर्यटन स्थल है। मंदिर के प्रांगण में रात 7:30 से लेकर 8:30 बजे तक 1 घंटे का साउंड लाइट शो चलता है। जिसमें सोमनाथ मंदिर का बड़ा ही सुंदर तरीके से सचित्र वर्णन किया जाता है। लोक कथाओं के अनुसार यहीं पर भगवान् श्रीकृष्ण ने अपना देह त्याग किया था। इस कारण इस क्षेत्र का और भी ज्यादा महत्व बढ़ गया।

चलिए अब आपको बतलाते हैं सोमनाथ मंदिर से जुड़े प्राचीन रहस्य के बारे में…

प्राचीन हिंदू ग्रंथों के अनुसार सोम अर्थात चंद्र ने प्रजापति राजा दच्छ की 27 कन्याओं के साथ विवाह किया था। लेकिन अपनी सभी पत्नियों में वह रोहिणी नाम की पत्नी को सबसे अधिक प्यार और सम्मान दिया करते थे। अपनी बाकी बेटियों के साथ यह अन्याय होते देख  क्रोध में आकर राजा दक्ष ने चंद्रदेव को श्राप देते हुए कहा, कि अब से हर रोज तुम्हारा तेज कम होता रहेगा। इस श्राप के फलस्वरुप हर दूसरे दिन चंद्र देव का तेज घटने लगा। श्राप से विचलित होकर चंद्र देव ने भगवान शिव की आराधना शुरू कर दी। चंद्र देव की आराधना से भगवान शिव प्रसन्न हो गए और चंद्र देव के श्राप का निवारण किया। Somnath Temple Mystery In Hindi

अब सफेद बालों को कहो ‘अलविदा

कहते हैं कि चंद्रदेव का कष्ट दूर होते ही उन्होंने भगवान शिव की स्थापना यहां करवाई, और तब से यहां विराजित भगवान शिव, भोले भंडारी का नाम सोमनाथ पड़ गया।

एक दूसरे मान्यता के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण भालूका तीर्थ पर विश्राम कर रहे थे तभी एक शिकारी ने उनके पैर के तलवे में पदचिन्ह को हिरण की आंख समझकर धोखे में तीर मारा था। यहीं पर से भगवान श्रीकृष्ण ने अपना देह त्याग किया, और यहीं से वह बैकुंठ के लिए प्रस्थान कर गए। इस स्थान पर बड़ा ही सुंदर कृष्ण मंदिर भी बना हुआ है।

और चलिए अब बात करते हैं कि विश्व प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर कब अस्तित्व में आया?

Somnath Temple Mystery In Hindi

प्राचीन धर्म ग्रंथों के अनुसार इस मंदिर का निर्माण चंद्रदेव ने किया था। पर बुद्धिजीवी कोई धार्मिक ग्रंथों के आधार पर विश्वास नहीं करते। इसीलिए इस मंदिर का मूल निर्माण और तिथि अज्ञात है। प्राया काल में सोमनाथ मंदिर को नष्ट किया गया और फिर से इसका निर्माण किया गया। गुजरात के वेरावल बंदरगाह में स्थित इस मंदिर की महिमा और ख्याति दूर दूर तक फैली हुई थी। अरब यात्री अलबरूनी ने अपने यात्रा विक्रांत में इसका वर्णन किया है। जिस से प्रभावित होकर महमूद गजनबी ने सन 1024 में सोमनाथ मंदिर पर हमला किया। उसने यहाँ से 20 लाख दीनार की लूट की, और आधी शिवलिंग को भी खंडित कर दिया था। इसके बाद प्रतिष्ठित की गई शिवलिंग को 1300 ईसवी में अलाउद्दीन की सेना ने खंडित किया। इसके बाद भी कई बार मंदिर के शिवलिंग को खंडित किया गया।

कहा जाता है कि आगरा के किले में देव द्वार सोमनाथ मंदिर के ही हैं। एक उत्कृष्ट शिलालेख के अनुसार कुमारपाल ने 1169 में इस मंदिर को एक उत्कृष्ट पत्थर में बनवाया और इसे गहने के साथ सजा दिया था। फिर बाद में 1299 में उल्लाल खान के नेतृत्व में अलाउद्दीन खिलजी की सेना ने वाघेला वंश के करण देव द्वितीय को पराजित किया, और सोमनाथ मंदिर को फिर से नष्ट कर दिया। हसन निजाम के ताज उल नासिर के मुताबिक सुल्तान ने दावा किया कि उसने तलवार के दम पर 50 हजार काफिरों को नर्क भेजा और 20  हज़ार से भी अधिक दास बनाए। Somnath Temple Mystery In Hindi

3 असाधारण इंसान जिनका जबाब विज्ञान भी नहीं दे पाया

कान्हा देव जो कि जालौर के राजा थे, उन्होंने बाद में खिलजी की सेना को हराकर खंडित शिवलिंग को वापस प्राप्त किया और सभी बंदियों को मुक्त कराया। कहते हैं 1395 में इस मंदिर को फिर से नष्ट कर दिया गया था। और 1491 में  गुजरात के सुल्तान महमूद बेंदा इसे अपमानित भी किया था। 1546 ईसवी में गोवा में स्थित है पुर्तगाली ने सोमनाथ में गुजरात के बंदरगाह और कस्बा पर हमला किया और कई मंदिरों को नष्ट कर दिया। जिनमें सोमनाथ मंदिर भी एक था। वर्तमान समय में सोमनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण भारत के स्वतंत्रता के पश्चात लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल ने करवाया था।

सोमनाथ मंदिर के दक्षिण में समुद्र के किनारे पर एक स्तंभ मौजूद है। उसके ऊपर एक तीर रखकर संकेत किया गया है की सोमनाथ मंदिर और दक्षिणी ध्रुव के बीच पृथ्वी का कोई भी भूभाग नहीं है। मंदिर की पृष्ठ भाग में स्थित प्राचीन मंदिर के बारे में मान्यता है कि यह पार्वती जी का मंदिर है।

सोमनाथ जी के मंदिर का संचालन और व्यवस्था सोमनाथ ट्रस्ट के अधीन है। सरकार ने ट्रस्ट को जमीन बाग बगीचे दे कर आय का प्रबंध किया है। यह तीर्थ पितृगन के साथ नारायण बलि आदि कर्मों के लिए भी प्रसिद्ध है। चैत्र, भाद्र, कार्तिक महीनों में यहाँ स्नान करने का विशेष महत्व बताया गया है। इन 3 महीनों में यहाँ श्रद्धालुओं की बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। इसके अलावा यहां 3 नदियां हिरण, कपिला और सरस्वती का महासंगम होता है।  इस त्रिवेणी स्नान का विशेष महत्व है। सोमनाथ मंदिर के समय काल में अन्य देव के मंदिर भी थे, इसमें भगवान शिव के 135, भगवान् विष्णु के 5, देवी के 25, सूर्य देव के 16, गणेश जी के 5, नाग मंदिर 1, क्षेत्रपाल मंदिर 1, 19 कुंड और 9 नदियां बताई जाती है।

एक शिलालेख में विवरण है कि महमूद के हमले के बाद 21 मंदिरों का निर्माण किया गया। संभवता इसके पश्चात भी अनेकों मंदिर बने होंगे। चार धाम में से एक धाम भगवान श्री कृष्ण की द्वारिका सोमनाथ से करीब 200 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां पर प्रतिदिन द्वारकाधीश के दर्शन के लिए देश और विदेशों से हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं। यहां गोमती नदी स्थित है इसके स्नान का विशेष महत्व बताया गया है इस नदी का जल सूर्योदय पर बढ़ जाता है और सूर्यास्त पर घट जाता है। जो सुबह सूर्य निकलने से पहल मात्र 1 या 2 फिट ही रह जाता है।

विश्व प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर आदि अनंत है। इसका सर्वप्रथम निर्माण काल अज्ञात है। हर काल में इस मंदिर को बुरी ताकतों ने लूटा और शिवलिंग को खंडित किया गया। इन सबके बावजूद, आज भी अपने भक्तों के लिए सोमनाथ मंदिर में विराजित शिवलिंग और यह मंदिर पूरे भव्यता के साथ इस दुनिया के सामने खड़ा है। यह मंदिर उन सभी बुरी ताकतों के लिए एक मिसाल है, और सबसे बड़ा उदाहरण है… जो यह दर्शाता है कि आखिर कितना भी अंधेरा हो, जीत हमेशा उजाले की ही होती है। और चाहे कितनी भी बुराई हो जीत हमेशा सच्चाई की ही होती है।

दोस्तों अपने जीवन काल में इस भव्य सोमनाथ मंदिर का दर्शन आप सभी जरूर कीजिएगा। और अगर आपने इस मंदिर के दर्शन किए हैं तो अपने अनुभव हमें कमेंट बॉक्स में लिखिए। अगर आपको हमारा यह पोस्ट Somnath Temple Mystery In Hindi पसंद आया है तो लाइक और शेयर जरूर कीजिएगा ताकि यह जानकारी आगे तक पहुंच सके। धन्यवाद॥

If You Like My Post Then Share To Other People

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here