टाइटैनिक का वो सच जो हमसब से छुपाया गया The Secret of How the Titanic Ship Sank

Secret of How the Titanic Ship Sank in hindi

The Secret of How the Titanic Ship Sank: टाइटैनिक(Titanic) के बारे में आप सब को पता ही होगा कि कैसे 15 अप्रैल 1912 को इतना भारी जहाज एक बर्फ की चट्टान से टकरा कर डूब गया था। जहाज पर सवार 2224 लोगों में से 1500 लोगों ने अपनी जान गवाई, लेकिन इसमें भी कई रहस्य दफन है जो आपको पता नहीं होंगे। और इसके डूबने का कारण जानकर आप हैरान हो जाएंगे। इस जहाज से जुड़े हुए कई ऐसी बातें हैं जो हम सब से छुपाई गई, जिसे जानने के बाद आपकी Titanic की तरफ सोच ही बदल जाएगी।

The Secret of How the Titanic Ship Sank

Titanic लगभग 882 फीट लंबा 115 फीट ऊंचा और 92 फीट चौड़ा जहाज जिसका वजन 46,328 टन था वह आज के हिसाब से भी एक ना टूटने वाला जहाज था।

दोस्तों जो जहाज सिर्फ एक बर्फ की चट्टान से टकराकर पानी में डूब गया। नई खोजों ने यह साबित किया है कि इस जहाज के डूबने का असली कारण बर्फ की चट्टान नहीं बल्कि बहुत सी ऐसी चीजें भी जो रहस्य पैदा करती है। ब्रिटिश जर्नलिस्ट ‘सलोन मैलानी’ ने लगभग 30 साल तक Titanic पर रिसर्च की और पाया कि जिस जगह पर Titanic से वह बर्फ की चट्टान टकराई थी उस जगह पर 30 फीट पड़ा काला धब्बा पाया गया। उसके बाद अपनी रिसर्च टीम के साथ उन्होंने Titanic की पहले की तस्वीरों का अध्ययन भी किया। तब उन्होंने पाया कि Titanic जहाज के उस जगह पर पहले से ही आग की वजह से मेटल कमजोर हो चुका था। ऐसा सिर्फ लगभग 3 हफ्ते तक लगातार उच्च तापमान पर रहने के कारण हो सकता था। मेट्रोलॉजी विशेषज्ञों का भी मानना है इतने उच्च तापमान से धातु 75% तक कमजोर हो जाती है। इसी कारण बर्फ की चट्टान से टकराने से जहाज में छेद हुआ। अगर यह आग से धातु कमजोर ना हुआ होता तो जहाज कभी टूटता ही नहीं।

अंटार्टिका के बर्फ में दफन पिरामिड का रहस्य

इस बात की जानकारी कंपनी को भी थी और इसे पानी में भेजा ही नहीं जाना चाहिए था। लेकिन जहाज की महंगी टिकट बेची जा चुकी थी, और जहाज को पानी में नहीं उतारने से कंपनी को एक बड़ा नुकसान होता। जहाज पर यात्रियों के चढ़ने के समय जहाज को इस तरह से लगाया गया कि जहाज का वो कमजोर हिस्सा लोगों नजरों से ओझल समंदर की तरफ रहे। इन सबके बावजूद जहाज अपने रास्ते चल पड़ा। जहाज पर हर आलीशान सहूलियत थी। एक पूल, एक टेनिस ग्राउंड, और भी बहुत कुछ। उस जहाज पर हजारों के हिसाब से शराब की बोतलें थी। The Secret of How the Titanic Ship Sank

लेकिन सबसे रहस्यमय बात की इतना सब होते हुए भी उस जहाज पर एक भी दूरबीन नहीं थी। अगर टाइटैनिक जहाज पर एक भी दूरबीन होती तो बर्फ की चट्टान को पहले ही देखा जा सकता था। पर इतनी बड़ी गलती कैसे हो गई? दरअसल उस समय सोनार नहीं हुआ करता था। और जहाज की खास लोग आगे से दूरबीन के जरिए देखते थे। वह दूरबीन एक डेक में होती थी जो सिमट थी और उसकी चाबी सेकंड ऑफिसर ‘डेविड मिलर’ के पास थी जिसे आखिरी समय पर बदल दिया गया था। और उसकी जगह नए ऑफिसर के पास चाबी थी ही नहीं।

इसके साथ ही इस जहाज के चलाने में भी देरी हुई थी जिस कारण इस जहाज को अधिकतम सुरक्षित रफ्तार से तेज चलाया जा रहा था, जिस कारण नुकसान ज्यादा हुआ। इसके बाद एक बहुत बड़ी गलती नहीं की गई थी जो सबसे भारी पड़ी दरअसल इस जहाज पर सभी भी यात्रियों को सुरक्षित करने के लिए 40 लाइफ बोट होना जरूरी था। लेकिन जहाज पर सिर्फ 20 लाइफ वोट थे। उसके साथ ही हर लाइव वोट पर 67 सीटें थी, पर जहाज के डूबने वक़्त पहले कुछ लाइफ बोट पर सिर्फ 27 लोगों को ही बचाया गया। The Secret of How the Titanic Ship Sank

3 असाधारण इंसान जिनका जबाब विज्ञान भी नहीं दे पाया

इसके साथ जब Titanic जहाज डूब रहा था तब कई इमरजेंसी प्लेस भी छोड़े गए लेकिन पास की ही एक जहाज कलिफोर्नियान Californian ने उसे इग्नोर कर दिया। जिस कारण सब लोगों को बचाया नहीं जा सका। आखिर में कारण जो भी हो इस दुर्घटना में 1500 लोगों ने अपनी जान गंवाई, जिस से जुड़े थे कई संयोग और गलतियां जो इस घटना को रोक सकते थे। आपको इस बारे में क्या लगता है? आप सब अपने विचार हमें कमेंट कर जरूर बताएं। धन्यवाद॥

If You Like My Post Then Share To Other People

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here