5g सर्विस क्या है? और इंडिया में कब तक आएगी What is 5g Technology in Hindi

What is 5g Technology in Hindi

what is 5g technology in hindi: दोस्तों हमारी जिंदगी में फिलहाल रोटी कपड़ा और मकान की जगह तीन और शब्दों ने ले ली है। अब हम सब फोन, डाटा, और सोशल मीडिया इनका ही ज्यादा इस्तेमाल करते हैं और इनसे ही हमारी जिंदगी जुड़ चुकी है। हर दिन हम तकनीक को बेहतर इस्तेमाल करने के लिए आगे बढ़ते रहते हैं, और सोचते रहते हैं कि कहीं से डाटा पैक सस्ते में मिल जाए जिससे हम देश दुनिया के साथ जुड़ सकें। हमारे देश में 5g technology (5g) दस्तक देने वाला है।

अगले साल की शुरुआत तक कई देशों में हाई स्पीड इंटरनेट की शुरुआत की जा सकती है। इन देशों का दावा है की हाई स्पीड इंटरनेट आ जाने के बाद इंटरनेट की स्पीड 10 से 20 गुना तक बढ़ जाएगी। इसके आने के बाद हमारे जीवन में कुछ बदलाव आएगा, क्या हम सब को फिर से नया फोन खरीदना होगा? जैसे 3G और 4जी के वक्त खरीदना पड़ा था। क्या गांव-गांव तक इंटरनेट पहुंच जाएगा? इन सभी सवालों के पहले 5जी से जुड़े कुछ बुनियादी सवालों के बारे में जानना बेहद जरूरी है। तो चलिए आज हम आपको अपनी पोस्ट “what is 5g technology in hindi” में बतलाते हैं 5जी से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण जानकारी।

5g क्या है what is 5g technology

5g technology मोबाइल इंटरनेट की पांचवी पीढ़ी माना जा रहा है जिसकी स्पीड आज के इंटरनेट की स्पीड से कहीं ज्यादा होगी। जिससे जल्दी और सरलता से बड़े डाटा को अपलोड और डाउनलोड किया जाएगा। इसकी पहुंच वर्तमान मोबाइल इंटरनेट से कहीं अधिक और बेहतर होगी। यह तकनीक पूरी तरह से रेडियो स्पेक्ट्रम के बेहतर इस्तेमाल का उदाहरण होगी, और इससे एक साथ कई डिवाइस को इंटरनेट से जोड़ा जाएगा।

दरअसल आज के समय में मोबाइल पर सबसे ज्यादा वीडियो देखी जाती है। इस तकनीक से क्वालिटी बढ़ जाएगी, हाई स्पीड इंटरनेट शहर को स्मार्ट बना देगा, और बहुत कुछ होगा जो अभी हम सब सोच भी नहीं सकते।

Also Read:- स्पेसक्राफ्ट अंतरिक्ष से वापस पृथ्वी पर कैसे आते हैं 

कल्पना कीजिए राहत और बचाव कार्य में लगे ड्रोंस के झुंड की या आग का जायजा ले रहे या ट्रैफिक पर नजर रख रहे हैं ड्रोंस की, जो आपस में बिना तारों के जुड़े हैं। और साथ ही साथ जमीन पर स्थित नियंत्रण केंद्र से लगातार संपर्क में हैं। 5g technology के आ जाने से अनुमान है की  स्वचालित कारें भी एक दूसरे से बेहतर संवाद कर पाएगी और यातायात और मैप से जुड़ा हुआ डाटा लाइव साझा कर पाएगी। मेडिकल फैसिलिटी और भी ज्यादा बेहतर हो जाएगी। दोस्तों और भी बहुत कुछ होगा जो हमारी दुनिया बदल देगा, कई नई तकनीक इस्तेमाल की जाएगी।

लेकिन दोस्तों अभी तक 5g के सभी प्रोटोकॉल तय नहीं किया गया है। यह हाई फ्रीक्वेंसी बेन  पर काम करेगा, 3.5 गीगाहर्ट्ज से लेकर 26 गीगाहर्ट्ज़ या उससे भी ज्यादा पर यह काम करेगा। दोस्तों इस ‘फ्रीक्वेंसी बेन’ में ‘वेब लेंथ’ छोटे होते हैं। लेकिन परेशानी यह है कि छोटे वेवलेंथ को आसानी से रोका जा सकता है तो ऐसे में हो सकता है की इन मिली मीटर तरंगों को प्रसारित करने के लिए, कम ऊंचाई वाले टेलीफोन टावर लगाने पड़े। जो एक दूसरे के अधिक नजदीक होंगे इसके लिए कई ट्रांसमीटर लगे होंगे जिस पर खर्च ज्यादा आएगा। और टेलीकॉम कंपनियां निवेश और फ़ायदे पर सोच कर ही इस सेवा को भारत में शुरू करेंगी।

दोस्तों आपको बतला दे कि यह तकनीक पूरी तरफ से 4g तकनीक से अलग होगा। यह नई रेडियो तकनीक पर काम करेगा। हलाकि शुरुआत में यह अपने ओरिजिनल स्पीड में काम करेगा या नहीं यह अभी तय नहीं है। क्योंकि यह सब कुछ टेलीकॉम कंपनियों के निवेश और इन्फ्रास्ट्रक्चर पर निर्भर करता है। फिलहाल 4g पर सर्वाधिक स्पीड 45 एमबीपीएस तक मुमकिन है।

चिप बनाने वाली सबसे प्रसिद्ध और विश्वसनीय कंपनी qualcomm का अनुमान है कि 5g इस तकनीक से 10 से 20 गुना तक हाई स्पीड हासिल कर सकेंगे।

आप एक हाइ डेफिनेशन फिल्म को एक या दो मिनट में पूरी डाउनलोड करने की कल्पना कर सकते हैं। अधिकतर देशों में 5g(5g technology) सेवा 2020 तक लागू हो जाएगा। हलाकि कतर की एक कंपनी का कहना है की वह यह सेवा यानी 5g सेवा अपने देश में शुरू कर चुकी है। वहीं दक्षिण कोरिया इस सेवा की शुरुआत अगले साल तक कर देगा। चीन भी 2019 तक 5g सेवा शुरू करने की योजना बना रहा है।

भारत में कब तक 5g आएगा 5g technology in india

भारत में 5g आने में शायद थोड़ा देर लगे क्योंकि इस नई तकनीक के लिए भारी निवेश करने में शायद भारतीय कंपनियां अभी नहीं कर पाएं। देखना यह भी होगा की क्या ग्राहक इस सेवा यानि 5g के लिए अधिक पैसा चुकाने के लिए तैयार हो पाएंगे। भारतीय बाजार में इस समय 4g डाटा बहुत ही सस्ते दामों पर ग्राहकों को मिल रहा है। ऐसे में वह 5जी पर अधिक खर्च करेंगे या नहीं यह भी देखने की बात होगी।

अब यह सवाल उठता है कि क्या फोन बदलना होगा? तो जवाब शायद हां है। क्योंकि जब 4G आया था तब फोन बदलना पड़ा था। क्या यह संभव है कि नए फोन बिना सिम के चले? दोस्तों कई कंपनियां नई तकनीक पर काम कर रही है तो अब इंतजार कीजिए 5जी का आने का। जब तक यह सेवा भारत में नहीं आ जाता तब तक आप 4जी के सस्ते डाटा पैक के साथ मजे कीजिए।

यह जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट बॉक्स में हमें जरूर बताइएगा। और अगर आपको हमारा यह पोस्ट “what is 5g technology in hindi” पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए। धन्यवाद॥

Loading...
If You Like My Post Then Share To Other People

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here