सेबी(SEBI) क्या है और इसका कार्य क्या है? What is Sebi in Hindi

What is Sebi in Hindi

What is Sebi in Hindi: आज हम बात करेंगे सेबी(Sebi) के बारे में, कि सेबी क्या है?(What is Sebi in Hindi) इसका गठन कब हुआ? और इसका कार्य उद्देश्य क्या है?

सेबी क्या है? What is Sebi in Hindi

दोस्तों “सेबी(SEBI-Securities and Exchange Board of India) अर्थात भारतीय प्रतिभूति और विनियम बोर्ड” की स्थापना वैसे तो 12 अप्रैल 1988 ईस्वी एक गैर संवैधानिक निकाय के रूप में हुआ था। सेबी की स्थापना के बाद 30 जनवरी 1992 को भारत सरकार ने संसद में एक अध्यादेश के माध्यम से सेबी को एक संवैधानिक दर्जा दिया।

सेबी का मुख्यालय मुंबई में स्थित है। और सेबी के कुछ क्षेत्रीय कार्यालय भी हैं जो क्रमशः दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता और अहमदाबाद में स्थित है। तो इस तरह से सेबी का मुख्यालय मुंबई के अलावा चार महानगर में इसकी क्षेत्रीय कार्यालय स्थित है। दोस्तों अब हम बात करेंगे की सेबी का संवैधानिक ढांचा कैसा है और इसके कौन-कौन से सदस्य हैं?

म्यूच्यूअल फंड क्या होता है?

सेबी के संपूर्ण प्रबंधन में 6 सदस्य होते हैं। इसमें से एक सदस्य अध्यक्ष होता है,और अन्य पांच सदस्य के अलग कार्य के होते हैं। जैसा की हमने बताया की सेबी में 6 सदस्य होते हैं, तो अब हम विस्तार से बताते हैं कि 6 सदस्य कौन कौन होते हैं,और यह कहां से आते हैं?

अध्यक्ष

जैसा कि आपको ज्ञात हो गया होगा कि सेबी में एक अध्यक्ष होता है, जिसका नामांकन भारत सरकार के द्वारा किया जाता है। इनका कार्यकाल 3 साल के लिए होता है या 65 वर्ष की उम्र तक होता है, इसमें से जो भी पहले हो।

दोस्तों बाकी चार सदस्यों को भी भारत सरकार ही चुनकर भेजती है। इनमें से 2 सदस्य वित्त मंत्रालय के जानकार और 2 कानून के जानकार होते हैं। शेष 1 सदस्य आरबीआई(RBI) के होते हैं, उनका चयन आरबीआई के अधिकारियों में से किया जाता है।

जब सेबी की स्थापना 1988 ईस्वी में हुई थी, तो सेबी की प्रारंभिक पूंजी 7.5 करोड़ थी, मतलब 7.5 करोड़ रुपए में सेबी की स्थापना हुई थी। और यह जो पूंजी थी यह तीन प्रमुख कम्पनिओं ने दी थी। IDBI ICICI और IRCI इन तीन कंपनियों के द्वारा उस समय 7.5 करोड़ रुपए की राशि सेबी को सुरु करने के लिए दिया था।

अब हम जानते हैं की यह जो सेबी है अर्थात भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय एवं बोर्ड इसकी स्थापना के समय कौन कौन से कार्य या लक्ष्य को निर्धारित किया गया था, या सेवी की स्थापना का उद्देश्य क्या था?

सेबी(SEBI) की स्थापना का उद्देश्य:-

शेयर बाजार में निवेशकों के हितों की रक्षा करना:

दोस्तों बहुत से निवेशक शेयर बाजार में बहुत से कंपनियों के शेयर को खरीद और बिक्री किया करते हैं, ऐसे लोगों के साथ अगर कुछ गलत होता है तो निवेशक सेबी में अपना शिकायत दर्ज करा सकते हैं। सेबी का पहला काम है निवेशकों के हितों की रक्षा करना।

पूंजी बाजार को विकसित करना:

अब आप सोच रहे होंगे कि पूंजी बाजार क्या होता है? तो पूंजी बाजार वह होता है जो कंपनियों को कम समय या ज्यादा समय के लिए लोन प्रदान करता है। कंपनियां या औद्योगिक घराना पूंजी बाजार के माध्यम से लोन ले पाते हैं, तो ऐसे बाजार को विकसित करना भी सेबी का प्रमुख कार्य है।

शेयर बाजार के सभी अंगों को सेबी के ढांचे के अधीन लाना:

शेयर बाजार के कई अंग होते हैं। जैसे की कंपनियां, निवेशक, ब्रोकर, दलाल, कंपनियों के निवेशक इन सभी को सेबी के आधीन लाना या (सेबी का जो नियम है उसके अधीन लाना) भी सेवी का एक प्रमुख कार्यों में से एक है। ताकि पूरा का पूरा जो शेयर मार्केट है वह सेबी के बनाए हुए नियम से चल सके और किसी भी निवेशक के साथ धोखा ना हो।

शेयर बाजार में अनैतिक व्यापार पर रोक लगाना:

शेयर बाजार में जो भी व्यापार अनैतिक हो, जो भी कंपनी गलत तरीके से व्यापार कर रहा हो, उस पर रोक लगाना और शेयर बाजार मैं अनैतिक तरीके से किसी भी कंपनी के शेयर को गलत तरीके से खरीद या बिक्री पर रोक लगाना भी सेबी के कार्यों में से है।

इनसाइडर ट्रेडिंग पर रोक लगाना:

अब आप सोच रहे होंगे कि इनसाइडर ट्रेडिंग क्या होता है? तो दोस्तों इनसाइडर ट्रेडिंग का मतलब होता है अंतरंग व्यापार, मतलब कई बार ऐसा होता है कि कई कंपनियां जो अपना शेयर जारी कर रहा होता है, ऐसे में जो उस कंपनियों के अधिकारी होते हैं जिनको कि उस कंपनी के गुप्त व्यापार के बारे में पता हो या कुछ गुप्त जानकारी पता हो तो ऐसे में वे अधिकारी उस शेयर के माध्यम से ज्यादा फायदा कमा लेते हैं। ऐसे लोगों या कंपनियों की गतिविधियों को रोकना भी सेबी का एक प्रमुख कार्य है।

म्यूच्यूअल फंड सहित अन्य सामूहिक रत्नों का पंजीकरण करना:

देश में बहुत सारी ऐसी स्कीम में लॉन्च होती है जिसमें बहुत सारे लोगों से एक साथ पैसा लेकर शेयर बाजार में लगाया जाता है। ऐसे फंड का पंजीकरण करना तथा इस पर इनकी देखभाल करना भी सेबी का ही कार्य है।

शेयर मार्केट क्या है?

मुख्य रूप से हम यह कह सकते हैं कि सेबी, शेयर बाजार में होने वाला हर गतिविधि पर ध्यान रखती है। तथा यह ब्रोकर, निवेशक के साथ धोखा ना करें इन सब चीजों पर रोक लगाना ही सेबी का मुख्य मकसद एवं कार्य है।

तो दोस्तों हमारा यह पोस्ट सेबी क्या है,और इसका कार्य क्या है(What is Sebi in Hindi) आपको कैसा लगा हमे अपने कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं।धन्यवाद॥

Loading...
If You Like My Post Then Share To Other People

26 COMMENTS

  1. hi!,I like your writing so much! share we communicate more about your post on AOL? I need a specialist on this area to solve my problem. May be that’s you! Looking forward to see you.

  2. Hello, you used to write magnificent, but the last few posts have been kinda boring… I miss your super writings. Past several posts are just a little bit out of track! come on!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here